या तो में 35 से पहले एक मिलिनेयर बनूंगा या फिर मैं ऊंची बिल्डिंग से छलांग मार दूंगा. ऐसा ही कहा था Warren Buffett ने जब वह बहुत छोटे थे.


दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में जानेंगे दुनिया के सबसे अमीर इन्वेस्टर पैसे कैसे कमाए. कैसे उन्हों ने $0 को 32 साल की उम्र में उसे million-dollar बना दिया. और एक मिलियन को पचासी billion-dollar बना दिया.


Warren Buffett Biography In Hindi
Warren Buffett Biography - Warren Buffett Amir Kaise Bane


वॉरेन बफेट का जीवन परिचय Warren Buffett Biography:

वारेन बुफेट का जन्म 30 अगस्त 1930 में Omaha अमेरिका में पैदा हुए थे. वारेन बुफेट के पिता Howard Buffett  एक स्टॉक ब्रोकर थे. जो कि एक पॉलिटिशन भी रहे हैं.

जबकि उनकी Mother एक हाउसवाइफ थी. 1930 में अमेरिकन क्राइसिस चल रहे थे, उससे पहले कि वारेन बुफेट 1 साल की होते  फैमिली ने अपने सारे बैंक savings खोदी. 


क्योंकि जिस बैंक में वारेन बुफेट के फैमिली की सेविंग थी वह बंद हो गया. Warren Buffett बचपन में अपने मां-बाप को गरीबी में जीते हुए देखे हैं. 


उनकी मां कहीं बार एक वक्त की खाना skip कर देती थी, ताकि Warrent के पिता खाना खा सके. क्योंकि वह पूरा दिन काम करके थक जाते थे.


तो यह सब गरीबी देखकर ही Warrent Buffett ने बोला था  या तो मैं 35 साल से पहले एक मिलेनियर बन जाऊंगा. या तो फिर Omaha के सबसे ऊंची बिल्डिंग से छलांग मार के अपनी जान दे दूंगा.


Warren Buffett Ke Vichar:

बचपन से ही वारेन मैथ और नंबर के साथ बहुत अच्छे थे. इसीलिए वह हर किसी चीज में पैटर्न ढूंढ लेते थे. फॉर एग्जांपल  वह अपने घर के सामने सारी गाड़ियों के नंबर देखते, और रात को उन्हें एक कागज़ में लिखते रहते.


और यह देखते की कौन सी कार सबसे ज्यादा बार उनके घर के सामने से गुजरती है. एक बार वारेन ने देखा कि एक आदमी उनके घर के सामने लगी मशीन से कोल्ड ड्रिंक ले रहा है.


और उस मशीन के सामने कोल्ड ड्रिंक के ढक्कन पड़े हैं, वारेन बुफेट ने हफ्तों तक हर रोज सारे ढक्कन को उठाएं और दिखा की लोग सबसे ज्यादा कौन सी कंपनी के कोल्ड ड्रिंक पीते हैं. 


ढक्कननों को काउंट करने के बाद उसको पता चला कि लोग कोकाकोला ज्यादा प्रेफर कर रहे हैं. फिर बहुत सालों बाद  इन्वेस्टिंग की कैरियर में इसी नॉलेज को फॉलो करके उन्होंने कोकाकोला के काफी shares खरीद लिए थे.


जब वारेन बुफेट 10 साल के थे और Benson Librari मैं Book पढ़ रहे थे तब उन्हें एक बुक दिखाई दी जिसका टाइटल था 1000 तरीके $1000 कमाने की.


उस Book में पैसे कमाने की काफी Ideas दिए थे  लेकिन उनमें से एक आईडिया Warren को बहुत पसंद आगया. और वो आईडिया था कि आप Waiting मशीन लगाकर भी $1000 कमा सकते हैं. 


आइडिया था कि एक  मशीन को लगा के उससे जितने पैसे आएंगे उस पैसों से दूसरी मशीन ख़रीद ली जाए. हर बार प्रॉफिट को खर्च करने की बजाएं Re-invest किया जाए.


यह देखते ही वह 7 साल का बच्चा वारेन बफेट  कैलकुलेशन करने लग गए एक Waiting machine उन्हें कितने की पड़ेगी. और उसके प्रॉफिट से उन्हें कितना टाइम लगेगा दूसरी Waiting machine खरीदने में.


वह 7 साल का बच्चा वारेन बुफेट ने यह तक भी कैलकुलेट करने लग गया कि दुनिया का हर इंसान अगर उनकी Waiting machine use करता है तो वह कितने पैसे कमा सकते हैं.


वारेन बुफेट बचपन से ही काफी चीजें बेचना स्टार्ट कर दिया था. जैसे कि उन्होंने Coca-Cola बेचे, Chingam बेचे, Magazine बेचे और सुबह 4:00 बजे उठकर लोगों को न्यूज़पेपर भी दी.


उन्हें बचपन से ही पैसा कमाने की गेम में मजा आने लगा था वारेन बुफेट कहते हैं कि पैसे कमाने में Enjoy थी, Freedom थी और मैं खुद का Boss बन सकता था.


Warren Buffett Story:

वारेन बुफेट को बचपन से ही Compounding के concept से प्यार हो गया था. क्योंकि उन्होंने बचपन में एक राजा की स्टोरी सुनी थी. जो कि कुछ इस तरीके से थी.


एक बार राजा के पास एक पुजारी आता है और वह राजा से दान मांगता है. और वह घमंडी राजा बोलता है कि तुम जितना चाहोगे हम तुम्हें उतना दान देंगे, मांगो क्या मांगते हो.


और तब वो पुजारी ने कहा कि Chess मैं 64 Boxs होते हैं और मुझे तुम पहले Box में एक चावल का दाना दे दो फिर अगले बॉक्स में उसे डबल कर दो, यानी दो चावल के दाने. उसके बाद तीसरे बॉक्स में उसे दोबारा डबल कर दो, यानी 4 चावल के दाने.


और इस तरह तुम Chess के 64 सेक्शन तक करते रहो  जितने चावल के दाने टोटल आएंगे बस मुझे इतना ही चाहिए. राजा ने कहा बस, तुम कितने नादान हो.


इससे अच्छा तो तुम मुझसे हीरे जवाहरात मांगते. लेकिन जब उन राजा के सैनिकों ने 64 सेक्शन मैं चावल के दाने  डालने स्टार्ट किए, तो फिर वह 64 सेक्शन में इतने ज्यादा दाने थे कि उस राजा को अपना पूरा किंगडम बेचना पड़ा. 


और वारेन बुफेट इस स्टोरी से इतने इंप्रेस हुए की उन्होंने कंपाउंडिंग को अपने core philosophy मान लिया. 


जब वारेन बफेट ने Harvard Business School मैं अपने पिताजी के कहने पर अप्लाई किया तो Harvard के Interviews लेने वाले Team ने वारेन बुफेट का 10 मिनट के लिए इंटरव्यू लिया. और उनसे कहा भूल जाओ तुम्हारा हावर्ड में एड-मिशन नहीं हो सकती.


और इस बात से वारेन बहुत दुखी हो गए और यह सोचने लगे की अब मैं पिताजी को क्या बोलूंगा. लेकिन अब वारेन बुफेट बोलते हैं कि, शायद ही मेरे साथ सबसे बेस्ट चीज हुई थी.


क्योंकि कुछ साल पहले  उन्होंने एक बुक पड़ी थी जिसका नाम था The Intelligent Investor, Security Analysis by Benjamin Graham. जिससे वॉरेन बफेट बहुत ज्यादा इंप्रेस हुए थे.


हावर्ड की रिजेक्शन के बाद वारेन बुफेट ने कोलंबिया यूनिवर्सिटी की Prospective मैं देखा Benjamin Graham वहां पढ़ा रहे हैं. फिर उन्होंने उन्हें एक लेटर लिखा. 

डियर प्रोफ़ेसर मुझे अभी तक लगता था कि आप मर चुके हैं. क्योंकि जब अब मुझे पता चल चुका है कि आप जिंदा है, और कोलंबिया यूनिवर्सिटी में पढ़ा रहे हो तो मैं यूनिवर्सिटी को Join करना चाहता हूं. Fortunately Warren Buffett को कोलंबिया यूनिवर्सिटी में दाखिला मिल गया.


और वारेन बुफेट बोलते हैं कि यह दिन मेरे लाइफ में सबसे बेस्ट दिन थे. क्योंकि मैंने Benjamin Graham से इन्वेस्टिंग के बारे में बहुत कुछ सीखा. 


Warren Buffett Investment Philosophy:

Benjamin Graham ने उन्हें इन्वेस्टमेंट के 2 बेस्ट rule सिखाएं. Rule नंबर one अपनी इन्वेस्टमेंट के पैसे को कभी भी Risk में ना डालो, यानी Never lose money. और Rule नंबर दो था Never forget rule number one.


वारेन बुफेट ने जो एक बहुत Important concept Benjamin Graham से सीखा था, वह था value इन्वेस्टिंग. किसी कंपनी को उसी के value के हिसाब से खरीदना चाहिए. ना की प्रेजेंट मार्केट value के According.


फॉर एग्जांपल अगर आपको पता है की कि एक Pen का कीमत ₹10 का है, और कल को अगर मार्केट आपको यह पेन ₹20 में बेचते हैं उसे खरीदना नहीं चाहिए. बल्कि wait करना चाहिए.


और जिस दिन भाई pen मार्केट आपको ₹5 का ऑफर करने लगे तो उसी वक्त उसे खरीद लेना चाहिए. और जैसे ही मार्केट दोबारा से उस पेन को  ₹10 का बेच रही हो, तो आपको भी वह खरीदा हुआ पेन मार्केट में ₹10 में बेच देना चाहिए और प्रॉफिट कमा लेना चाहिए.


और यही फिलॉसफी वारेन बुफेट ने बड़ी कंपनियों के शेयर खरीदने में use किया, और बहुत पैसे कमाए. 


1956 में Warren ने  25 साल की उम्र में खुद की एक पार्टनरशिप फॉर्म खोली, जिसमें उनके साथ 7 पार्टनर थे. ज्यादातर पार्टनर उन्हीं के फैमिली में से थे. 


सिर्फ 6 साल में यानी 1962 में अपने $105000 को अपने पार्टनर-शिप farm की मदद से 7 मिलियन डॉलर में कन्वर्ट कर चुके थे. जिसमें से एक मिलियन डॉलर Buffett के थे.


यानी सिर्फ 32 साल की उम्र में ही वारेन बुफेट एक मिलेनियर बन चुके थे. Fortunately उन्हें कोई ऊंची बिल्डिंग से कूदना नहीं पड़ा जैसे कि उन्होंने बचपन मैं प्रॉमिस किया था.


मार्केट में शेयर का प्राइस बढ़ रहा था, और सत्ता शेयर खरीदना मुश्किल हो रहा था. इसीलिए वारेन बुफेट ने कुछ सालों में ही अपना पार्टनर-शिप फॉर्म बंद कर दी. 


वारेन को पब्लिक स्पीकिंग से बहुत डर लगता था वह कहते हैं कि उस वक्त अगर मैं stage में चला जाऊं तो मुझे लगता था कि मैं vomit कर दूं.


फिर उन्होंने न्यूज़पेपर में एक पब्लिक स्पीकिंग course देखा, उन्होंने वह course join कर लिया. Warren Buffett के according  इससे उनको आगे की Professional लाइफ में उनको बड़ा Jump मिला. 


वारेन बुफेट कहते हैं कि इस course से उन्हें इतना कॉन्फिडेंस भी आ गया था कि उन्होंने उस वक्त अपनी गर्लफ़्रेंड सुजैन को शादी के लिए प्रपोज कर दिया. और उनसे शादी कर ली.


इसके बाद Buffett की लाइफ में एंट्री हुई उनकी एक क्लोज पार्टनर Cherles Munger की. Cherles Munger से मिलने से पहले Warren की इन्वेस्टमेंट फिलॉस्फी यह थी कि, ऐसी कंपनी खरीदो जिसकी एक्चुअल वैल्यू तो ज्यादा हो, लेकिन खराब मैनेजमेंट की वजह से वह अभी सस्ते में मिल रही हो. और बाद में जब उस कंपनी की वैल्यू बढ़ जाए उस वक्त उसकी मार्केट शेयर बेच दो और प्रॉफिट कमा लो.


Warren Buffett Company:

Cherles Munger से मिलने के बाद Buffett की यह Investment strategy बन गई की ऐसी कंपनी खरी-दो जो High qualities कंपनी हो. और जिन्हें बाद में बेच ने की जरूरत ही ना पड़े.


क्योंकि उस कंपनी की वैल्यू खुद ही कंपाउंड होकर बाद में बढ़ जाए गी और हमें वह कंपनी प्रॉफिट कमा कर देगी. 


और इसी philosophy की वजह से वारेन बुफेट ने Coca-Cola, American Express, Gillette जैसे कंपनी के शेयर खरीदे, और बहुत प्रॉफिट कमाया.


इससे कुछ साल पहले Buffett ने एक कंपनी के काफी शेयर खरीद लिए थे जिसका नाम था Berkshire Hathaway, जो कि एक टेक्सटाइल कंपनी थी. 


जब Buffett इस कंपनी के काफी शेयर खरीद चुके थे, उस वक्त इस कंपनी का पूरा कंट्रोल बुफेट के हाथ में आ गया. फिर उसके बाद  वॉरेन बफेट Berkshire Hathaway कंपनी के चेयरमैन बन गए.


वारेन बुफेट ने Berkshire Hathaway की Useless asset बेचना स्टार्ट कर दिया, फाइनली टेक्सटाइल का काम बंद करके उसे एक इन्वेस्टिंग farm बना दिया.


आज भी वारेन बुफेट का ज्यादातर पैसा Berkshire Hathaway मैं ही है. वारेन बुफेट ने एक सिंपल आइडिया लिया जो कि एक कंपाउंडिंग, और इस आइडिया को बफेट ने पूरी लाइफ फॉलो किया.


और आज 2019 में वारेन बुफेट की net-worth 85 बिलियन डॉलर के करीब है. और यह वही लड़का है जिसकी मां को कम पैसों की वजह से अपने एक वक्त का खाना skip करना पड़ता था.


वारेन बुफेट की लाइफ से जुड़ी यह आर्टिकल आपको कैसा लगा, आप कमेंट सेक्शन में जरूरत कमेंट शेयर कीजिएगा. अगर आर्टिकल आपको अच्छा लगा तो इस आर्टिकल को आप अपने सोशल मीडिया या फ्रेंड के साथ शेयर कर सकते हैं धन्यवाद. 

Post a Comment

Previous Post Next Post