नमस्कार तो आज हम बात करने वाले हैं Prince Pipes and Fittings Limited IPO के बारे में. प्रिंस पाइप एंड फिटिंग पॉलीमर पाइप एंड पॉलीमर फिटिंग बनाने वाली कंपनी है. जिसके मीनली दो ब्रैंड है,प्रिंस पाइपिंग सिस्टम और Trubore पाइपिंग सिस्टम.


कंपनी पिछले 30 साल से इस फील्ड में काम कर रही है और उनके 6 मैन्युफैक्चरिंग प्लांट भी है. Prince Pipes and fittings Limited का IPO 500 करोड़ का आईपीओ है. और इन पैसों से कंपनी अपना जो Debt है वह repair करेगी.


साथी कंपनी नया मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटी शुरू करना चाहती है, यानी कंपनी इन पैसों की उपयोग Debt repayment के लिए और बिज़नेस एक्स-पेंशन के लिए करना चाहते हैं. 

Prince Pipes IPO
प्रिंस पाइप एंड फिटिंग पॉलीमर पाइप एंड पॉलीमर फिटिंग बनाने वाली कंपनी है

Prince Pipes and Fitting IPO Opening:

Prince Pipes का IPO 18 December 2019 को खुलेगा और 20 तारीख तक यह आईपीओ ओपन रहेगा. जैसे कि हमने बात की इस आईपीओ के साइज है  500 करोड़, जिसमें से 250 करोड़ कंपनी Freshly issued करेगी.  यानी कंपनी 250 करोड़ रुपए अपने नए शेयर issue करके उठाएगी.


और बाकी जो 250 करोड़ है उसमें कंपनी की जो प्रोमोटर है वह अपना Steak बेच लेंगे.  इन्हें आप सिंपल भाषा में यह कह सकते हो, कि इस यीशु के साइज 500 करोड़ है, लेकिन यह आईपीओ 250 करोड़ है और 250 करोड़ ऑफर फॉर सेल है.


Book Building Issue:

तो इस आईपीओ में आप Bidding लगा सकते हैं, और जो यीशु प्राइस है वह 177 to 178 रुपीस है. तो जैसे कि आपको पता है कि आईपीओ हमेशा लौट में खरीदे जाते हैं. और इस आईपीओ के एक लौट में 84 Shares है.


तो आप 84 के multiples मैं Shares सब्सक्राइब कर सकते हो. सुप्रीम इंडस्ट्रीज, फिनोलेक्स इंडस्ट्रीज, और आशीर्वाद पाइप यह प्रिंस पाइप एंड फिटिंग्स के Main competitor है. तो इस इंडस्ट्री में सबसे ज्यादा मार्केट शेयर सुप्रीम इंडस्ट्रीज के पास है. 


Prince pipes and Fittings market share:
अगर प्रिंस पाइप एंड फिटिंग के मार्केट Shares की बात की जाए तो उसका मार्केट Share है  5% जोकि फाइनेंसियल ईयर 2016 में 4.5% था. और जहां तक मार्केट शेयर की Growth की बात किया जाए, तो प्रिंस पाइप के मार्केट शेयर की ग्रोथ इतनी खास नहीं रही.


Prince pipes and Fittings Financial:

अगर प्रिंस पाइप एंड फिटिंग के फ़ाइनेंशियल के बारे में बात किया जाए, तो शुरुआत करेंगे Revenue से  कंपनी का रेवेन्यू फाइनेंसियल ईयर 2015/16 में 10,816 करोड़ था. जोकि फ़ाइनेंशियल ईयर 2018/19 तक 15,789 करोड़ हो गया. यानी कि कंपनी के कंपाउंडिंग सालाना Revenue ग्रोथ  सिर्फ 10% के करीब रही है.


 तो देखो कोई भी स्मॉल कैप कंपनी है तो उसमें Risk ज्यादा है, तो ऐसे टाइम अगर आप ज्यादा रिस्क ले रहे हो तो आपको ऐसी कंपनी ढूंढनी चाहिए जिनका परफॉर्मेंस काफी अच्छा रहा हो. और वह कंपनी काफी तेजी से ग्रो हो रही हो. 


अगर कोई लार्ज कैप कंपनी कंपाउंडेड सालाना 10/11 पर-सेंट से बढ़ रही है  तो ठीक बात है. लेकिन अगर कोई स्मॉल कैप कंपनी इस तेजी से बढ़ रही है तो आपको देखना पड़ेगा. 


अगर कंपनी के प्रॉफिट मार्जिन की बात की जाए कंपनी की प्रॉफिट मार्जिन 6/7 पर-सेंट की करीब है. फ़ाइनेंशियल ईयर 2015/16 में  कंपनी का प्रॉफिट 295 करोड़ था जो कि अगले साल बढ़ कर 741 करोड हुआ. यानी फ़ाइनेंशियल ईयर 2015 से फ़ाइनेंशियल ईयर 2016/17 के प्रॉफिट में बहुत ही ज्यादा Jump हो गई.


लेकिन उसके बाद यानी फ़ाइनेंशियल ईयर 2016/17 के बाद कंपनी के जो प्रॉफिट ग्रोथ है वो फिर से काफी धीमी हो गई. अगर कंपनी के नॉन करेंट लायबिलिटी की बात की जाए, तो कंपनी का Debt Limit मैं लग रहा है. तो जैसा कि हमने बात की, की कंपनी आईपीओ से मिलने वाली पैसों से अपना Debt भी कम करने वाली है.


 Prince pipes and Fittings Promoters:

अगर कंपनी के प्रमोटर्स की बात की जाए तो Chheda Family  कंपनी को Owns करती है. कंपनी के करीब करीब 90% Stake Chheda Family के पास है. जो कि इस आईपीओ के आने के बाद थोड़ा कम हो जाएगा. तो अगर पूरी पाइप इंडस्ट्रीज की बात की जाए तो पूरी पाइप इंडस्ट्रीज की ग्रोथ  पिछले कुछ सालों में बड़ी स्लो रही है.


और इस आईपीओ के बारे में और भी ज्यादा जानकारी के लिए आप Prince pipes and Fittings के DRHP भी चेक कर सकते हो. कुछ आईपीओ को रिसेंटली बहुत ही अच्छा रिस्पांस मिला, जब कुछ आईपीओ हिट होने लगता है तो बहुत सारी कंपनी अपना आईपीओ लेकर आती है.


इसलिए अब किसी भी आईपीओ में ब्लाइंड्ली इन्वेस्टमेंट नहीं कर सकते. जब भी कोई आईपीओ होता है तो उसका डिटेल्स एनालिसिस कीजिए उसके बाद ही उस में इन्वेस्ट कीजिए.

Post a Comment

Previous Post Next Post